Happy New Year 2019

अभिव्यक्ति को दें उड़ान
संस्कृति की बनो पहचान
पाओ यश कीर्ति ज्ञान
बनो कर्मयोगी बढे शान

ना हो रिश्तों मे दरारें
जुड़े दिल, गिरे दिवारें
संघर्ष भरी भले हो राहें
ना थकें कभी ना कभी हारें

नव दिवस नव वर्ष की आभा
करे संचार मन मे नई आशा
है हमारी यही अभिलाषा
जीवन को दो नई परिभाषा

नव वर्ष की मंगल कामना के साथ
आशीष प्रियंका

Leave a Reply